गुजरात चुनाव से पहले सोनिया गाँधी के नजदीकी अहमद पटेल पर गंभीर आरोप

 95 


चुनावों से पहले गुजरात में सियासी भूचाल आ गया है. मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी व उपाध्यक्ष राहुल गांधी से मांग की है कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व सोनिया गाँधी के राजनीतिक सलाहकार अहमद पटेल से इस्तीफा लें. पटेल पर आरोप है कि भरूच के जिस अस्पताल से जुड़े कथित IS आतंकियों की गिरफ्तारी हुई है, अहमद पटेल इस अस्पताल के ट्रस्टी रहे हैं. ये कथित आतंकवादी इस अस्पताल में नियमित कर्मचारी था और अस्पताल प्रशासन ने दो दिन पहले ही उसका इस्तीफा मंजूर किया है.
अहमद पटेल ने इसपर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए एक पोस्ट किया है. जिसमें उन्होंने कहा है कि BJP द्वारा लगाए गए आरोप निराधार हैं. चुनाव के लिए राजनीति नहीं होनी चाहिए, आतंकवाद से लड़ाई पर गुजरातियों को न बांटें.
अपने वरिष्ठ नेता पर लगे आरोपों को बेबुनियाद ठहराते हुए कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने पलटवार करते हुए भाजपा की केंद्र और राज्य सरकारों पर कई आरोप लगाये और साथ ही कहा कि चुनाव से पहले हताश BJP ओछी राजनीति पर उतर आई है. सुरजेवाला ने हुए कहा कि अहमद पटेल ने अस्पताल से साल 2014 में इस्तीफा ही दे दिया था. इसके बाद वह किसी भी तरह अस्पताल से नहीं जुड़े रहे. ऐसे में अगर कोई शख्स किसी आरोप में अब पकड़ा जाता है तो साल 2014 के अस्पताल के ट्रस्टी को जिम्मेगार कैसे ठहराया जा सकता है. ATS ने जिस उग्रवादी को पकड़ा है वो 5 महीने काम करने के बाद नौकरी छोड़कर चला गया था.

सुरजेवाला ने कहा कि भाजपा और रुपाणी अपनी विफलताओं को छिपाने के लिए इस तरह का प्रयास कर रहे हैं. कांग्रेस का इतिहास उग्रवादियों को खिलाफ जंग से भरा हुआ है. उन्होंने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि BJP सरकार के नाक के नीचे से दाऊद की पत्नी भारत आकर चली जाती है और किसी को कानोंकान खबर नहीं होती. उन्होंने कहा कि अगर ATS के पास सबूत हैं, तो कार्रवाई करें लेकिन किसी सम्मानित कांग्रेस के नेता पर आरोप न लगाएं.
उधर अस्पताल ने एक बयान जारी कर कहा है कि आतंकी मोहम्मद कासिम को नियमानुसार जांच के बाद अस्पताल में नौकरी मिली थी और गिरफ्तारी से पहले ही उसने अस्पताल से इस्तीफा दे दिया था. जिसे अस्पताल ने मंजूर भी कर लिया है. अस्पताल ने ये भी सफाई दी की अहमद पटेल या उनके परिवार के सदस्य अस्पताल में ट्रस्टी नहीं है.
इस मामले पर भाजपा नेता और केन्द्रीय कैबिनेट मंत्री प्रकाश जावडेकर ने कहा कि चुनाव में भाजपा विकास के मुद्दे को लेकर लड़ रही है. कांग्रेस के पास मुद्दों का अभाव है. उनके पास कोई मुद्दा नहीं है. विकास से दूर-दूर तक उनका नाता नहीं है. आज जो तथ्य सामने आया है वो बहुत चौंकाने वाला है. उन्होंने कहा कि हम तो विकास के मुद्दे से भटकेंगे नहीं पर इसका खुलासा कांग्रेस को करना चाहिये कि आतंकवाद की लड़ाई में वो हमारे साथ हैं या वहां भी वो राजनीति कर रहे हैं.
गुजरात एटीएस ने दो आतंकियों मोहम्मद कासिम टिंबरवाला और उबेद अहमद मिर्जा को 26 अक्टूबर को गिरफ्तार किया था. ATS के अनुसार गिरफ्तार संदिग्ध आतंकी अहमदाबाद के खादिया इलाके में स्थित यहूदी उपासनागृह में हमले की योजना बना रहे थे. टिंबरवाला अंकलेश्वर में एक अस्पताल में लैब टेक्नीशियन के रूप में काम करता है, जबकि एक होटल का मालिक उबेर अहमद मिर्जा सूरत जिला अदालत में वकील है.
आतंकी मोहम्मद कासिम टिंबरवाला अहमद पटेल के अस्पताल में नौकरी करता था. जिसने पकड़े जाने के दो दिन पहले ही अस्पताल से इस्तीफा दिया था. यह शख्श हमला करके जमैका भाग जाना चाहता था और इसकी पूरी तयारी भी कर चूका था.

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें

loading...


Loading...





Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *