दिल्ली के CM अरविंद केजरीवाल जब भी भाषण देते हैं, उनकी अनूठी शैली पब्लिक को हंसाती है. लोग तालियां बजाते हैं, लेकिन यहां मामला एकदम उलट है। केजरीवाल से दु:खी होकर ये महोदय फूट-फूटकर रो पड़े। उनके आंसू रुकने का नाम ही नहीं ले रहे थे।
यह हैं दयानंद गर्ग। भिवानी की नई अनाज मंडी में बुधवार को अभिभावक सम्मेलन आयोजित किया गया था। दयानंद इसके आयोजक थे। इसमें केजरीवाल को मुख्य अतिथि के तौर पर बुलाया गया था। लेकिन ऐन मौके पर कुर्सियां खाली होने की जानकारी लगने पर केजरीवाल ने आने से मना कर दिया। बस फिर क्या था…गर्ग साहब को ऐसा झटका लगा कि वे बच्चों की तरह रो पड़े।

सम्मेलन रद्द होने के बाद गर्ग ने रोते हुए मीडिया को बताया कि उन्होंने सभा के लिए ब्याज पर पैसा उधार लिया था। केजरीवाल के न आने से उनका पैसा डूब गया..उनके सम्मान को ठेंस पहुंची है। इसके बाद गर्ग सभास्थल पर ही धरने पर बैठ गए।
बताया जाता है कि पिछले 15 दिनों से इस आयोजन की तैयारियां चल रही थीं। आयोजक दयानंद गर्ग घर-बार की फिक्र छोड़कर तन-मन और धन से सभा को सफल बनाने में जुटे हुए थे, लेकिन सारी मेहनत पर पानी फिर गया..ऊपर से कर्ज और सिर पर आ गया।
दयानंद ने कहा कि केजरीवाल ने उन्हें मुंह दिखाने लायक नहीं छोड़ा। सम्मेलन के लिए उन्होंने परिवार तक को समय नहीं दिया। उनकी 6 साल की बेटी 10 दिनों से एक पैंसिल लाने की मांग कर रही थी, लेकिन वे उसे टालते रहे।
उधर, पार्टी के प्रवक्ता जतिन राजा ने सफाई दी कि यह पार्टी का प्रोग्राम नहीं था। तैयारियां भी पूरी नहीं हुई थीं। सीएम केजरीवाल को दोपहर 2 बजे दिल्ली में प्राइवेट स्कूलों के ऑडिट से संबंधित मीटिंग में पहुंचा था।



loading…

Loading…






Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *