कर्नाटक में कांग्रेस और भाजपा ने एक दूसरे पर विधायकों की खरीद-फरोख्त का आरोप लगाया है. कांग्रेस नेता और कर्नाटक के जल संसाधन मंत्री डीके शिवकुमार ने कहा कि भाजपा सरकार गिराने के लिए ऑपरेशन लोटस चला रही है. वहीं भाजपा नेता और पूर्व मुख्यमंत्री येदियुरप्पा का आरोप है कि कांग्रेस भाजपा के विधायकों को खरीदने की कोशिश कर रही है.
कर्नाटक के कांग्रेसी नेता और जल संसाधन मंत्री डीके शिवकुमार ने कहा कि भाजपा सरकार गिराने के प्रयास कर रही है, कांग्रेस के तीन विधायक भाजपा नेताओं के साथ मुंबई में है. उधर भाजपा नेता और पूर्व मुख्यमंत्री येदियुरप्पा अपने विधायकों के साथ दिल्ली चले गये हैं. उनका आरोप है कि कांग्रेस भाजपा के विधायकों को खरीदने की कोशिश कर रही है.
कर्नाटक के मुख्यमंत्री और जेडीएस नेता एचडी कुमारस्वामी का कहना है कि वो विधायक मुझे बताकर गए हैं, चिंता की कोई बात नहीं है. हमारा कोई भी विधायक पाला नहीं बदलेगा, तीनों विधायक लगातार मेरे संपर्क में हैं. वे लोग मुझे बताने के बाद ही मुंबई गए हैं, मेरी सरकार को कोई खतरा नहीं है. मुझे पता है कि भाजपा किसके संपर्क में हैं और वे क्या ऑफर कर रहे हैं. मैं इससे निपट लूंगा.
कर्नाटक के उपमुख्‍यमंत्री जी परमेश्‍वर ने कहा कि हमारे विरोधी कह रहे हैं कि सरकार गिरने जा रही है, लेकिन ऐसा होने नहीं जा रहा. हमारे कुछ विधायक बाहर गए हैं. वे विधायक मंदिर गए हैं. छुट्टियों पर गए हैं या फिर परिवार से साथ समय बिताने गए हैं, यह बात हमें नहीं पता. किसी ने भी यह नहीं कहा है कि विधायक भाजपा में शामिल होकर सरकार को गिराने जा रहे हैं. सभी विधायक हमारे साथ अभी तक बने हुए हैं.
कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा नेता बीएस येदियुरप्पा अपने विधायकों के साथ दिल्ली पहुंच गये हैं. उन्होंने आरोप लगाया कि कर्नाटक का मुख्यमंत्री होने के बावजूद कुमारस्वामी विधायकों की खरीद-फरोख्त में लगे हैं. उन्होंने हमारे कलबुर्गी विधायक को मंत्री पद और पैसों का लालच दिया. हम यहां पर अपनी एकता को दर्शाने के लिए आए हैं, हम यहां एक-दो दिन और रहेंगे. तीन कांग्रेसी विधायकों के भाजपा के संपर्क में होने की बात पर येदियुरप्पा ने कहा कि यह सब अफवाहें हैं, इनमें कोई सच्चाई नहीं है. ये सबकुछ केवल जेडीएस और कांग्रेस के बीच में है. हमारे संपर्क में उनका कोई भी विधायक नहीं है. हमारा फोकस केवल अपने विधायकों को एकसाथ रखने में है.
केंद्रीय मंत्री और भाजपा नेता डीवी सदानंद गौड़ा ने कहा कि कांग्रेस को पहले अपना घर संभालना चाहिए. वे अपने विधायकों को कर्नाटक में एकसाथ रख नहीं पा रहे हैं और हर बात के लिए भाजपा पर उंगली उठाते हैं. भाजपा के पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने साफ कहा है कि सब बातें बेबुनियाद हैं. यह कांग्रेस और जेडीएस के बीच का मामला है, हम उनके किसी भी विधायक के संपर्क में नहीं हैं.
ज्ञात है कि 2008 विधानसभा चुनाव में किसी भी पार्टी को बहुमत नहीं मिला था. तब भाजपा को 110, कांग्रेस को 80, जेडीएस को 28 और निर्दलीयों को 6 सीटें मिली थीं. भाजपा ने 6 निर्दलीय विधायकों के समर्थन से सरकार बना ली थी, इसके बाद जेडीएस के चार और कांग्रेस के तीन विधायकों ने अपनी पार्टी से इस्तीफा दे दिया था. बाद में सभी भाजपा में शामिल हो गए, इन सीटों पर उप चुनाव हुए. सात में से पांच विधायक जीत गए और इस तरह सदन में भाजपा की संख्या 115 हो गई. इस पूरी कवायद को ऑपरेशन लोटस कहा गया था.
कर्नाटक विधानसभा में कुल 224 सीटें हैं वहाँ बहुमत के लिए 113 विधायकों के समर्थन की जरूरत है. वर्तमान में वहाँ भाजपा के 104, कांग्रेस के 80, जेडीएस के 37 और अन्य कुल तीन विधायक हैं.



loading…

Loading…






Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *