सुप्रीम कोर्ट में तीन तलाक की सुनवाई के दौरान आल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की तरफ से कांग्रेस नेता और वकील कपिल सिब्बल के बयान ने एक बार फिर राजनीतिक जंग छेड़ दी है। सुनवाई के दौरान कपिल सिब्बल ने कहा कि राम का अयोध्या में जन्म होना आस्था का विषय हो सकता है तो तीन तलाक का मुद्दा आस्था का मुद्दा क्यों नहीं हो सकता है। सिब्बल के इसी बयान पर भाजपा नेता संबित पात्रा ने उनपर पलट वार किया है।
संबित पात्रा ने फेसबुक पोस्ट के जरिए कहा, ‘सिब्बलजी, तीन बार राम बोलो तो दुख दूर होता है और तीन बार तलाक बोलो तो दुख शुरू होता है। यही फर्क हैं राम और तलाक में।’ संबित पात्रा की इस पोस्ट को शेयर किए जाने के बाद से अबतक इसे 17 हजार से ज्यादा लोग इसे लाइक कर चुके हैं। जबकि 2.5 हजार लोगों ने इसे अपनी वॉल पर शेयर किया है। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट में तीन तलाक मुद्दे पर सुनवाई के दौरान कपिल सिब्बल ने कहा था कि तीन तलाक मुद्दा आस्था का मुद्दा है जोकि पिछले 1400 सालों से लगातार चला आ रहा है। इस दौरान सिब्बल ने कहा कि आस्था के इस मामले में कोर्ट कोई परेशानी नहीं होनी चाहिए।

कपिल सिब्बल ने तीन तलाक को राम जन्मभूमि मामले से भी जोड़ा और कहा, ‘जब भगवान राम का अयोध्या में पैदा होना आस्था का विषय हो सकता है तो मुसलमानों में तीन तलाक आस्था का विषय क्यों नहीं हो सकता है।’ बहस के दौरान कपिल सिब्बल ने कहा कि इस्लाम धर्म में बहुत पहले ही महिलाओं को अधिकार दिए जा चुके हैं। परिवार और पर्सनल लॉ संविधान के तहत है। यह व्यक्तिगत आस्था का विषय हैं। इस दौरान जस्टिस कुरियन जोसेफ ने कपिल सिब्बल से पूछा कि क्या ई-तलाक भी कोई चीज है।
बता दें कि सिब्बल इससे पहले भी राम मुद्दे पर बयान देकर फंस चुके हैं। यूपीए-2 सरकार में रामे सतु मुद्दे पर जब सुप्रीम कोर्ट में कांग्रेस सरकार ने बयान दिया था कि राम सेतु जैसी कोई चीज नहीं है ये सिर्फ कोरी कल्पना है। तब भी कपिल सिब्बल ही केंद्र सरकार की तरफ से वकील थे।

ताज़ा अपडेट पाने के लिए हमारे पेज को लाइक करें

loading…



Loading…




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *