ऑस्ट्रेलिया ने अपने 457 वीजा प्रोग्राम को रद्द कर दिया, जिसका इस्तेमाल 95 हजार से ज्यादा विदेशी कामगार करते थे। ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री मैल्कम टर्नबुल ने नौकरियों में ऑस्ट्रेलियाई नागरिकों को वरीयता देने के लिए अस्थाई तौर पर 457 वीजा को खत्म कर रहे हैं।
एक रिपोर्ट के मुताबिक, इस वीजा कार्यक्रम के तहत 30 सितंबर 2016 तक ऑस्ट्रेलिया में 95,757 वर्कर काम कर रहे थे। इनमें से अधिकांश भारतीय हैं, जिनके बाद ब्रिटेन और चीन का नंबर है। ऑस्ट्रेलिया ने देश में बढ़ती बेरोजगारी से निपटने के लिए यह कदम उठाया है। अब इसकी जगह पर नई बंदिशों के साथ नया वीजा कार्यक्रम लाया जाएगा। रद्द किए गए 457 वीजा प्रोग्राम के जरिए कंपनियों को ऑस्ट्रेलियाई कामगारों की कमी वाले स्किल्ड जॉब्स में विदेशी कामगारों को अधिकतम चार साल तक रखने की इजाजत है।
ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री मैल्कम टर्नबुल ने कहा कि यह प्रवासियों का देश हैं, लेकिन यह भी सच है कि ऑस्ट्रेलिया में नौकरियों के लिए ऑस्ट्रेलियाई नागरिकों को वरीयता मिलनी चाहिए। इस वजह से हम अस्थाई तौर पर विदेशी कामगारों को हमारे यहां आने की इजाजत देने वाले 457 वीजा को खत्म कर रहे हैं। हम 457 वीजा को अब उन नौकरियों तक पहुंचने का जरिया नहीं बनने देंगे, जो ऑस्ट्रेलिया के लोगों को मिलनी चाहिए। उन्होंने कहा कि स्किल्ड जॉब्स के क्षेत्र में वह ‘ऑस्ट्रेलियन फर्स्ट’ की नई नीति अपनाने जा रहे हैं।
टर्नबुल ने कहा कि आने वाले नए वीजा कार्यक्रम के जरिए यह सुनिश्चित किया जाएगा कि ऑस्ट्रेलिया में अहम स्किल्स की कमी को भरने के लिए ही विदेशी कामगारों को लाया जाए। इसलिए नहीं कि किसी कंपनी को किसी ऑस्ट्रेलियाई को हायर करने की परेशानी से बचने के लिए विदेशी को रखने में सहूलियत होती है।
टर्नबुल का यह ऐलान ऐसे वक्त में सामने आया है, जब हाल ही में वह भारत दौरे से लौटे हैं। यहां उन्होंने सिक्यॉरिटी, आतंकवाद, शिक्षा, ऊर्जा जैसे मुद्दों पर विचार-विमर्श किया था। इसके अलावा, छह समझौतों पर हस्ताक्षर भी हुए थे।

loading…



Loading…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *