उत्तर प्रदेश के लिए कांग्रेस का आइडिया काफी मजबूत है. उत्तर प्रदेश में कांग्रेस कई दिलचस्प चीजें कर सकती है और ऐसे में हमें अपनी क्षमताओं पर पूरा भरोसा है. हम लोगों को चौंका देंगे.
एक विदेशी न्यूज चैनल को दिए गये इंटरव्यू में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने उक्त बातों के साथ पहली बार संकेत दिया कि उत्तर प्रदेश में कांग्रेस अकेले लोकसभा चुनाव लड़ सकती है.
राहुल गाँधी ने कहा कि हम सभी विपक्षी पार्टियों को साथ लाने का प्रयास कर रहे हैं. हमें विश्वास है कि हम मोदी को हराएंगे. मैंने मीडिया में कुछ बयान सुने हैं, लेकिन हम मिलकर काम करने जा रहे हैं. मैं सिर्फ इतना कहना चाहता हूँ कि उप्र में कांग्रेस को हल्के में लेना बड़ी गलती है. इससे पहले मध्यप्रदेश में बसपा और सपा ने कांग्रेस को समर्थन दिया था.
राहुल ने कहा कि हमारा पहला मकसद नरेंद्र मोदी को हराना है. जिन राज्यों में हम मजबूत हैं या हम पहले नंबर पर हैं, वहां भाजपा के खिलाफ अकेले चुनाव लड़ेंगे. महाराष्ट्र, झारखंड, तमिलनाडु, बिहार में गठबंधन की संभावनाएं हैं, यहां गठबंधन का फॉर्मूला तैयार करने पर काम चल रहा है. मोदी को हराने के लिए हम अन्य राज्यों में भी गठबंधन करने की कोशिश कर रहे हैं.
राहुल का बयान ऐसे वक्त में आया है जब देश के सबसे बड़े राज्य उप्र में सपा-बसपा ने एकसाथ चुनाव लड़ने का फैसला कर लिया है, हाँलाकि इसकी विधिवत घोषणा नहीं हुयी है. माना जा रहा है कि सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव और बसपा सुप्रीमो मायवती कांग्रेस के साथ चुनाव लड़ने के पक्ष में नहीं हैं. दोनों पार्टियां कांग्रेस के विरुद्ध सिर्फ दो सीटों रायबरेली और अमेठी में अपने प्रत्याशी नहीं उतरेंगी जहां से सोनिया गाँधी और राहुल गाँधी सांसद हैं.



loading…

Loading…






Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *