इन गांवों की बात है सबसे अलग, हर घर में मिलेगा एक सैनिक

 127 


हर नौजवान यही सोच रखता है कि भारतीय सेना में भर्ती होकर वह देश की रक्षा कर सके, लेकिन यह सफर बहुत ही कठिन होता है। यहां तक पहुंचना बहुत लोगों के लिए सिर्फ सपना बनकर ही रह जाता है।
आज हम आपको जो बताने जा रहे हैं, वो शायद आपको अजीब लगे। लेकिन यहीं सच है। भारतीय जमी में एक गांव ऐसा भी है, जहां हर घर में एक सैनिक मिल जाएगा। मध्यप्रदेश के सागर शहर से 7 किलोमीटर दूर बसा ग्यागंज देश के बाकि गांव से काफी अलग है। इस गांव में आमतौर पर आपको अनेकों नौजवान सुबह शाम वर्जिश करते, पसीना बहाते मिल जाएंगे। इन सबका मकसद बस एक ही है सरहद पर जाकर देश की सेवा करना, भारतीय सेना में भर्ती होना।
ग्यागंज गांव में लगभग 120 घर हैं। इन सभी घरों से लोग भारतीय सेना में है। आज भी यहां के तकरीबन 90-95 युवक जहां फौज में है, वहीं 30 से 40 सेवानिर्वित फौजी है इस गांव में। फिलहाल गांव की नई पौध लगभग 2000 युवा सेना में भर्ती की तैयारी कर रहे हैं। गांव के लोगों का फौज में जाने का ये सिलसिला दरअसल सालों पुराना है जब गांव से सटे शूटिंग रेंज में गांव वाले अक्सर फौजियों को अभ्यास करते देखते एवं उनसे उनकी बहादुरी एवं देशभक्ति के किस्से कहानियां सुनते। बस फिर क्या था देखते ही देखते देशभक्ति का ये जादू गांववालों के सिर चढ़ बोलने लगा।
आज ये गांव पूरे प्रदेश के साथ-साथ देश के नक्शे पर फौजियों के गांव के नाम से प्रचलित है। गांववालों का फौज में भर्ती होने के पीछे ऐसा जूनून है कि घर के एक बेटे के शहीद होने के बाद घरवाले दूसरे बेटे को भी फौज में ही भेजा। अगर आप इस मुगालते में है कि भाई फौज में भर्ती होने का मतलब पंजाब हरियाणा का ही कोई पटठा कर सकता है तो शायद आप गलत हो।

दक्षिण भारत के श्रीविल्लीपुत्तुर के पास स्थित पुरूमलथेवनपटटी नामक गांव के बारे में जानना भी आपके लिए बेहद जरूरी है। कहते है कि साल 1952 में गांव के एक नौजवान पेरूमल ने भारतीय फौज में भर्ती होने के लिए गांव छोड़ दिया था। और फिर 10 साल बाद 1962 में वापस गांव लौटने पर जब उसने गांववालों को भारतीय फौज की बहादुरी के किस्से सुनाए तो गांव के नौजवान खासे उत्साहित हुए। खेती-बाड़ी के काम से जुड़े अनेकों ग्रामीण नौजवानों ने तुरंत ही सबकुछ छोड़ भारतीय सेना में अपना जीवन बिताने का लक्ष्य साध लिया।
राजस्थान के झुझुनू से मात्र 20 किलोमीटर की दूरी पर बसा मुस्लिम बहुल गांव धनूरी एक ऐसा गांव है। जहां के अधिकांश बाशिंदे सेना में है वो भी चार पीढ़ियों से। कहा जाता है कि सेना मे भर्ती से लेकर शहीदों तक की तादाद को लेकर ये गांव अव्वल है। स्थानीय बुर्जुगों की माने तो ये सिलसिला लगभग प्रथम विश्व युद्ध से जारी है।
गांवों के अनेकों बेटों ने सन 1965, 1971 और फिर कारगिल की लड़ाई में भी हिस्सा लिया है और कई शहीद भी हो चुके हैं। मगर फौज में भर्ती होने का ये सिलसिला आज तक जारी है। अब तब गांव के 600 से ज्यादा बेटे फौज में भर्ती हो चुके हैं। गाँव के लोग फौज में कर्नल से ब्रिगेडियर तक के ओहदे तक अपनी सेवाएं दे चुके हैं। बावजूद इसके गांव में न तो उनके पराक्रम का कोई स्मृति चिन्ह मिलता है न किसी फौजी की मूर्ति। हालांकि गांव वालों ने अपने प्रयास से यहां के एक स्कूल का नाम शहीद मेजर एम एच खान के नाम पर रखा है।

यह भी पढ़ें : नाग से मौत की लड़ाई लड़ा कुत्ता, वफादारी से बचा ली 7 जवानों की जिंदगियां

यह भी पढ़ें : राजस्थान में शादी का अनोखा कार्ड, छपवाए मोदी मिशन के नारे

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें

loading…


Loading…