आतंकियों की मदद कर रही है PAK आर्मी, इसे सहन नहीं किया जाएगा, जवाब मिलता रहेगा : DGMO

 87 


पाकिस्तान की गुजारिश पर भारत और पाकिस्तान के डायरेक्टर जनरल ऑफ मिलिट्री ऑपरेशंस (DGMO) के बीच सोमवार दोपहर हॉटलाइन पर हुयी बातचीत में भारतीय लेफ्टिनेंट जनरल एके. भट्ट ने अपने काउंटर पार्ट मेजर जनरल साहिर शमशाद मिर्जा से साफ कहा कि पाकिस्तान आर्मी आतंकवादियों की मदद कर रही है और इसे सहन नहीं किया जाएगा।
भट्ट ने अपने पाकिस्तानी काउंटर पार्ट से साफ कहा कि इंडियन आर्मी प्रोफेश्नल तरीके से काम करती है और कभी भी सिविलियंस को नुकसान नहीं पहुंचाती। पाकिस्तान ने भारत के DGMO से कहा कि भारत LOC पर बिना उकसावे के फायरिंग कर रहा है। इसके जवाब में भारत ने कहा कि पाकिस्तान आर्मी आतंकियों की घुसपैठ में मदद कर रही है और इंडियन आर्मी मात्र इसका जवाब दे रही है। दोनों देशों के DGMO के बीच इस चर्चा का शेड्यूल पूर्व से तय नहीं था। पाकिस्तान की गुजारिश पर यह एकाएक हुयी।

भारत के लेफ्टिनेंट जनरल एके. भट्ट ने पाकिस्तानी मेजर जनरल साहिर शमशाद मिर्जा से साफ कहा कि पाकिस्तान आर्मी आतंकवादियों की मदद कर रही है और इसे सहन नहीं किया जाएगा। भारतीय सेना द्वारा LOC पर बिना उकसावे के फायरिंग करने के पाकिस्तानी आरोप के जवाब में भारत ने कहा कि हमारी सेना सिर्फ तभी जवाब देती है जब पाकिस्तान आर्मी आतंकवादियों को मदद देती है। आतंकी भारत में घुसपैठ करते हैं और इस दौरान पाकिस्तानी सेना भारी हथियारों से फायरिंग करती है ताकि आतंकी भारत में आसानी से घुसने में कामयाब हो सकें। अगर इस इलाके में काफी नुकसान हुआ है तो इसकी वजह पाकिस्तान की सेना है जो आतंकियों की मदद कर रही है।
सितंबर में भी भारत और पाकिस्तान के बीच DGMO लेवल की हुई बातचीत में भारत ने कहा था कि पाकिस्तान LOC पर घुसपैठ को फौरन रोके। भारत के DGMO द्वारा LOC पर आतंकियों के मूवमेंट के बारे में विरोध दर्ज कराने के जवाब में पाकिस्तान ने इससे साफ इनकार कर दिया था और भारत से पाकिस्तान ने घुसपैठ के सबूत देने को कहा था।
इसके पूर्व जुलाई में पाकिस्तान आर्मी द्वारा राजौरी जिले के नौशेरा में एक स्कूल पर की गयी फायरिंग जिसमें करीब 200 बच्चे स्कूल में ही फंस गए थे और भारतीय सेना ने स्कुल से बच्चों को बुलेट प्रूफ गाड़ियों में उनके घर तक पहुंचाने के बाद दोनों देशों के DGMO की बातचीत हुई थी। भारत ने स्कूली बच्चों और सिविलियन्स को टारगेट बनाए जाने पर सख्त आपत्ति दर्ज कराते हुए पाकिस्तान से कहा था कि वो अपने ट्रूप्स पर सख्ती से कंट्रोल करें और उन्हें किसी भी गैर जिम्मेदाराना कदम उठाने से रोंके। तब भी भारत ने साफ तौर पर बता दिया था कि अगर पाकिस्तान की तरफ से फायरिंग और घुसपैठ की कोशिश होती रही तो भारत की तरफ से भी करारा जवाब दिया जाता रहेगा।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें

loading...


Loading...





Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *