आजादी के बाद पहली बार बिजली से रोशन हुए झारखंड के दर्जनों गांव

 78 

झारखंड के एक-दो नहीं दर्जनों गांव जगमग हो गए हैं जिसके बाद से यहां के लोगों की खुशी का ठिकाना नहीं है। दरअसल आजादी के करीब 70 साल बाद झारखंड के कुंदा प्रखंड के दर्जनों गावों में बिजली पहुंची है।
झारखंड के उन गांवों में बिजली पहुंचनी शुरू हो गई है जहां अभी तक बिजली का नामो-निशान नहीं था। कुंदा, मोहनपुर, बरवाडीह, साहपुर, मेदवाडीह, इचातू, मांझीपारा, टिकुलिया गांव में बिजली की आपूर्ति शुरू हो गई है। मांझीपारा गांव में पावर सब स्टेशन का निर्माण किया गया है।
जंगलों और पहाड़ो से घिरे कुंदा प्रखंड में बिजली पहुंचाना एक मुश्किल काम था लेकिन केंद्र और राज्य सरकार के प्रयास के से ये सफल हुआ है। कुंदा में बिजली पहुंचाने के लिए प्रशासन को भी कड़ी मेहनत करनी पड़ी। आपको बता दें कि केंद्र सरकार गांव- गांव बिजली पहुंचाने की दिशा में तेजी से काम कर रही है। एक रिपोर्ट के अनुसार उत्तर प्रदेश में अब सिर्फ छह गांव ऐसे बचे हैं, जिन तक बिजली नहीं पहुंच पाई है, जबकि कुछ समय पहले तक यह संख्या 1,500 से भी ज़्यादा थी।
इसके अलावा बिहार में 319 गांव ऐसे हैं जहां बिजली पहुंचाने का काम बाकी है।केंद्रीय ऊर्जा मंत्री पीयूष गोयल के मुताबिक ग्रामीण विद्युतीकरण मामले में बिहार तीव्र गति से आगे बढने वाले राज्यों में से एक है।देश में अभी 3997 गांवों में बिजली नहीं पहुंची है। एक मई 2018 तक पूरे देश के गांवों में बिजली पहुंच जाएगी और गांव-गांव रोशन होगा।
हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें

loading…


Loading…



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *