आईटी विशेषज्ञ बेहतर और नए आइडिया से बिहार को आगे बढ़ाएं, सरकार हर सहयोग को तैयार है. साथ ही उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने देशभर से आए IT विशेषज्ञों और Start Ups से जलवायु परिवर्तन, जल संरक्षण, कुपोषण, कृषि उत्पादकता आदि वैश्विक चुनौतिओं से नवाचार और नयी तकनीकों द्वारा निपटने का आवाहन किया.
नवनिर्मित सरदार पटेल भवन में पटना आइडियाथॉन-2018 का उद्घाटन करते हुए उन्होंने कहा कि कतिपय कारणों से देश तीन औद्योगिक क्रांतियों से लाभांवित नहीं हो सका. पहली और दूसरी औद्योगिक क्रांति के वक्त देश गुलाम था. तीसरी क्रांति के वक्त हम अस्तित्व के लिए जूझ रहे थे. अब चौथी औद्योगिक क्रांति आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस, ब्लॉक चेन, रोबोटिक्स, बिग डाटा आदि से आयेगी और इनके माध्यम से भारत एक महत्वपूर्ण स्टेक होल्डर बन सकता है. उन्होंने नवाचार एवं उद्यमिता को 21वीं सदी का मूल मंत्र बताते हुए कहा कि इसका उपयोग गरीबी उन्मूलन में किया जाना चाहिए.
सुशील मोदी ने कहा कि यह आयोजन बदलते बिहार का संकेत है, जो कृषि प्रधान प्रदेश है. जलवायु परिवर्तन और जल संरक्षण बिहार सहित पूरी दुनिया के लिए बड़ी समस्या है. IT विशेषज्ञ इसका निदान सुझाएं. नवाचार एवं उद्यमिता को 21वीं सदी का मूल मंत्र बताते हुए उन्होंने कहा कि इसका उपयोग गरीबी उन्मूलन में किया जाना चाहिए. राज्य सरकार पाटलिपुत्र, पटना में Software Technology Parks केंद्र के क्षमतावर्द्धन हेतु एक लाख वर्गफीट अतिरिक्त कार्यक्षेत्र के निर्माण के लिए 26 करोड़ रुपये उपलब्ध करा रही है. भागलपुर और दरभंगा में STPI केंद्र की स्थापना के लिए 2-2 एकड़ भूमि निःशुल्क उपलब्ध करायी गयी है. BIT पटना में आईटी इंक्यूबेशन सेंटर की स्थापना की जा रही है. IIT बिहटा में 30 हजार वर्गफीट में 47 करोड़ रुपये की लागत से इंक्यूबेशन सेंटर का निर्माण किया जा रहा है तथा बिहटा में आईटी पार्क और राजगीर में आईटी सिटी के लिए जमीन उपलब्ध करा दी गयी है. साथ ही बिहार के 300 से अधिक कॉलेजों में फ्री वाई-फाई की सुविधा देने के अलावे 5000 से अधिक पंचायतों को ब्रॉडबैंड से जोड़ा गया है.


देश में सबसे तेजी से उभरती अर्थव्यवस्था बिहार में उद्यमिता को प्रोत्साहित करने के लिए “आयडियाथॉन-2018” युवाओं के लिए एक शानदार मंच बनने जा रहा है. ज्ञान की धरती पर आयोजित ‘आइडियाथॉन’ में देश भर से जुटे IT क्षेत्र के धुरंधर लगातार दो दिनों तक मंथन करेंगे और अपने आईडियाज़ साझा करेंगे तथा राज्य में IT प्रक्षेत्र द्वारा विकास की असीम संभावनाएं खोजेंगे. तकनीकी एवं अन्वेषण के विभिन्न आयाम खुलेंगे, उद्यमिता को प्रोत्साहन मिलेगा. IT बिजनेस में नए नेतृत्वकर्ता उभरेंगे और युवाओं के लिए रोजगार की संभावनाओं के दरवाजे खुलेंगे.
डिजिटल एथिक्स एंड साइबर सिक्यूरिटी, ब्लॉकचेन, डिजिटल सिक्यूरिटी, बिग डाटा, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, ऑटोनोमस सिस्टम्स, सोशल नेटवर्किंग प्लेटफॉर्म्स समेत 14 अलग-अलग थीमों पर आधारित विषय पर पर अपने आईडियाज़ प्रस्तुत करंगे. विभाग ने प्राप्त 131 विकारों में से 42 को आमंत्रित किया गया था, जिनमें 36 ने भाग लिया. विजेताओं को नकद पुरस्कार, सर्टिफिकेट और ट्रॉफी मिलेंगे.
इस अवसर पर सूचना और प्रावैधिकी विभाग के सचिव सह बिहार स्टेट इलैक्ट्रोनिक्स डेवलपमेंट कॉरपोरेशन लिमिटेड के प्रबंध निदेशक राहुल सिंह ने कहा कि बिहार आडियाथॉन का आयोजन करने वाला देश का पहला राज्य है. दो दिनी इस आयोजन से जहां प्रतिभाओं को नया मुकाम मिलेगा, वहीं राज्य के विकास के लिए भी नए विचार आएंगे. श्रम संसाधन विभाग के प्रधान सचिव दीपक कुमार सिंह, माइक्रोसॉफ्ट के कंट्री हैड मनीष प्रकाश, एचपी के कमल कश्यप, आईआईएम बोधगया की निदेशक विनीता सहाय, सीआईआई के विनय वर्मा, केपीएमजी के रामेंद्र वर्मा, बिहार सरकार व विभिन्न कंपनियों के वरीय अधिकारीगण, IT एक्सपर्ट्स, Start Ups, सूचना और तकनीक से जुड़े छात्र आदि उपस्थित थे. सभी ने इस शानदार आयोजन के लिए बधाई देते हुए कहा कि भारतीय युवाओं में बुद्धि और ऊर्जा की कमी नहीं है. आज वे वैश्विक चुनौतियों को स्वीकारते हुए, उनका निदान खोज रहे हैं.



loading…

Loading…






Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *