आईसीआईसीआई बैंक पर लगा 58.9 करोड़ रुपये जुर्माना

 78 


रिजर्व बैंक ने सिक्योरिटीज की प्रत्यक्ष बिक्री के प्रावधानों का उल्लंघन करने के आरोप में आईसीआईसीआई बैंक पर 58.9 करोड़ रुपये जुर्माना लगाया, आरबीआई द्वारा किसी बैंक पर एक बार में लगाई गई यह अबतक की सबसे ज्यादा दण्ड है.
रिजर्व बैंक ने कहा कि एचटीएम पोर्टफोलियो की सिक्योरिटीज की प्रत्यक्ष बिक्री के नियमों का उल्लंघन करने के कारण आईसीआईसीआई बैंक पर यह दण्ड लगाया गया है. एचटीएम सिक्योरिटीज को मैच्योरिटी अवधि पूरी होने तक रखा जाता है जिसका आईसीआईसीआई बैंक ने पालन नहीं किया. बैंकों को एचटीएम सिक्योरीटीज के पेपर्स को मैच्योरिटी की अवधि तक रखना होता है और इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए इनका प्रयोग नहीं करना होता है.


देश के सबसे बड़े प्राइवेट बैंक (ICICI) की सीएमडी चंदा कोचर भी गंभीर आरोपों में घिरी हुई हैं. कोचर पर आरोप है कि उन्होंने वीडियोकॉन कंपनी को लोन दिया था और वह लोन अकाउंट 2017 में एनपीए घोषित किया गया है. ज्ञात है कि चंदा कोचर के पति से वीडियोकॉन के मालिक वेणुगोपाल धूत के कारोबारी रिश्ते हैं. धूत ने चंदा कोचर के पति दीपक कोचर के साथ दिसंबर 2008 में एक कंपनी बनाई थी. इस कंपनी में दीपक कोचर के दो रिश्तेदार भी शामिल थे. धूत ने इसके बाद एक कंपनी के जरिए इस ज्वाइंट वेंचर को 64 करोड़ लोन दिया. यही नहीं उसके बाद धूत ने जिस कंपनी के ज़रिए लोन दिया था उसकी सारी हिस्सेदारी मात्र नौ लाख रूपये में एक ट्रस्ट को सौंप दी थी, जिसके प्रमुख दीपक कोचर ही हैं.


हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें

loading...


Loading...



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *