अमेरिकी ड्रोन हमला पर बोला पाकिस्तान हमारी संप्रभुता का है उल्लंघन

 81 


पाकिस्तान की वित्तीय सहायता पर रोक के बाद अमेरिका ने अब पाकिस्तानी आतंकियों के खिलाफ स्वयं कार्रवाई शुरू करते हुए बुधवार को पाकिस्तान-अफगानिस्तान बॉर्डर पर ड्रोन से हमला कर हक्कानी नेटवर्क के 2 कमांडरों को ढेर कर दिया है। पाकिस्तान ने इस मामले में कहा कि उसकी जमीन पर ड्रोन हमला उसकी संप्रभुता का उल्लंघन है।
स्पीन थाल क्षेत्र में अफगानिस्तान सीमा से जुड़े एक मकान पर बुधवार को ड्रोन से दो मिसाइल दागे गए। इस हमले में हक्कानी नेटवर्क का कमांडर अहसान उर्फ खवारी और कमांडर जमीउद्दीन के मारे जाने की खबर है। अमेरिकी जासूसी विमान के जरिये ये हमले किए गए हैं।
एक एजेंसी ने अपने के सूत्रों के हवाले खबर दी है कि हक्कानी नेटवर्क के ठिकानों पर इसी वर्ष 17 जनवरी को भी ड्रोन हमले किए गये थे, जिसमें खुर्रम के बादशाह कोट इलाके में एक व्यक्ति गंभीर रूप से घायल हुआ था। पिछले साल अगस्त में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की नई अफगान नीति में पाकिस्तान पर आतंकियों को सुरक्षित पनाहगाह देने का आरोप लगाया गया था। 2016 में ऐसे ही हमले में तालिबान का शीर्ष आतंकी मुल्ला अख्तर मंसूर मार गया था।
नए साल पर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपने ट्वीट में साफ-साफ लिखा था कि- ‘अमेरिका मूर्खों की तरह पाकिस्तान को 15 सालों से सैन्य सहायता देता आ रहा है लेकिन इसके जवाब में उसे धोखा और झूठ वापस मिला है। 15 साल से अब तक अमेरिका ने पाकिस्तान को 33 बिलियन डॉलर की सहायता राशि प्रदान की है लेकिन हर बार हमें सिर्फ मूर्ख बनाया गया है। पाकिस्तान हमेशा से आतंकवादियों के लिए सुरक्षित पनाहगाह बना रहा है।’
हक्कानी नेटवर्क का अफगानिस्तान में अमेरिका के लिए काम करने वाले लोगों को अगवा करने और उन पर हमलों में हाथ रहा है। हक्कानी नेटवर्क ने ही काबुल स्थित भारतीय मिशन में विस्फोट करने समेत अफगानिस्तान में भारतीय हितों के खिलाफ भी कई हमले किए हैं। खुर्रम में इससे पहले नवंबर के आखिर में अमेरिकी ड्रोन हमले में हक्कानी नेटवर्क के चार आतंकी मारे गए थे। डोनाल्ड ट्रंप के अमेरिकी राष्ट्रपति बनने के बाद पाकिस्तान में चौथी बार ड्रोन हमला किया गया।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें


loading...


Loading...