कर्नाटक के दो विधायकों ने सरकार से अपना समर्थन वापस ले लिया है. समर्थन वापस लेने वाले विधायकों के नाम एच नागेश और आर शंकर हैं. एच नागेश मुलाबागिलू सीट से निर्दलीय विधायक हैं, वहीं आर शंकर रेनेबेन्नूर विधानसभा सीट से केपीजेपी के विधायक हैं. बता दें कि वह विधानसभा में केपीजेपी के एकमात्र विधायक हैं.
दोनों विधायकों ने कर्नाटक के राज्यपाल बनवारी लाल पुरोहित को पत्र लिखा है. इस पत्र में दोनों ने लिखा है कि वे जेडीएस और कांग्रेस की गठबंधन सरकार से अपना समर्थन तुरंत प्रभाव से वापस ले रहे हैं. दोनों ने इस संबंध में राज्यपाल से जरूरी कदम उठाने की गुजारिश की है. बसपा के एक विधायक ने पहले ही समर्थन वापस ले लिया है. 224 सदस्यीय विधानसभा में भाजपा के 104 विधायक, कांग्रेस के 79, जद एस के 37, बसपा, केपीजेपी और निर्दलीय के एक-एक विधायक हैं. अभी तक बसपा के साथ ही केपीजेपी और निर्दलीय विधायक भी गठबंधन सरकार का समर्थन कर रहे थे. कांग्रेस के पांच विधायक लापता बताए जा रहे हैं, कयास लगाए जा रहे हैं कि वे विधायक भाजपा के संपर्क में हैं. उधर येदियुरप्पा ने उन खबरों को खारिज किया है कि सरकार गिराने के लिए उनकी पार्टी ‘ऑपरेशन कमल’ में लगी हुई है. उन्होंने कहा कि ‘हम लोग सभी 104 भाजपा विधायक में साथ हैं. हमें गुरुग्राम में आगामी लोकसभा चुनाव के लिए रणनीति बनाने के लिए बुलाया गया है. सरकार बनाने को लेकर कोई बातचीत नहीं हो रही है. लेकिन अगर ऐसा कुछ होता है तो हमारे नेता आपको बताएंगे. ज्ञात है कि एक दिन पहले ही कर्नाटक BJP के एक नेता ने दावा किया था कि सरकार के नाराज विधायक पार्टी के संपर्क में हैं और मकर संक्रांति के बाद कर्नाटक में नई सरकार बनेगी.



loading…

Loading…






Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *