अब लड़ाई दिल्ली में लड़ी जाएगी. PM मोदी सब पर कब्जा करना चाहते हैं, उन्हें अब दिल्ली छोड़ गुजरात जाना होगा. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने 46 घंटे चले धरने को समाप्त करते हुए कहा कि मैं देश को एकजुट करने की कोशिश कर रही हूँ.
ममता बनर्जी आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू के कहने पर अपना धरना समाप्त करने को राजी हुईं. उन्हें मनाने के लिए मंगलवार की शाम पहुंचे नायडू ने कहा कि 23 पार्टियों ने ममता बनर्जी से धरना खत्म करने की अपील की है. ममता ने धरना समाप्त करने के साथ ही मोदी सरकार के खिलाफ अगले हफ्ते दिल्ली में हल्ला बोलने का ऐलान करते हुए कहा कि 12, 13 और 14 फरवरी को दिल्ली में मोदी सरकार के खिलाफ प्रदर्शन होगा.
ममता ने कहा कि वे अगले सप्ताह दिल्ली जाएंगी. देश को बचाना है तो मोदी को हटाना होगा. ये धरना भारत और लोकतंत्र को बचाने के लिए था. हमारे IAS और IPS के लिए था. गृह मंत्रालय के पत्र पर उन्होंने कहा कि ये फालतू की चीज है, उसका जवाब दिया जाएगा. ममता ने एक बार फिर साबित किया कि वो महागठबंधन की सबसे बड़ी नेता हैं. हाँलाकि ममता के बढ़ते कद से बंगाल कांग्रेस में चिंता भी है.
इससे पहले आज सुबह सुप्रीम कोर्ट ने CBI की याचिका पर दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने राजीव कुमार को शिलॉन्ग में CBI के सामने पेश होने का आदेश दिया. अवमानना के मामले में कोर्ट ने प. बंगाल के मुख्य सचिव, DGP और कोलकाता पुलिस कमिश्नर से 18 फरवरी तक जवाब मांगा है. ममता सरकार को सुप्रीम कोर्ट के आदेश से एक झटका लगा है. 20 फरवरी को पुनः सुनवाई होगी.
बहस के दौरान CBI की ओर से पेश अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने कहा कि SIT ने मामले की सही तरीके से जांच नहीं की, बल्कि सबूतों के साथ छेड़छाड़ की है. SIT डेटा और लैपटॉप को सुरक्षित तक नहीं रख पाई और उसने CBI को गलत कॉल्स डेटा दिया. बंगाल में संवैधानिक संस्थाएं चरमरा गई हैं. बंगाल सरकार की तरफ से वरिष्ठ अधिवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि CBI कोलकाता पुलिस कमिश्नर को परेशान करना चाहती है. इसपर चीफ जस्टिस गोगोई ने कहा कि राजीव कुमार को पूछताछ में क्या दिक्कत है? आखिर कमिश्नर CBI के सामने पेश क्यों नहीं हो रहे हैं? पश्चिम बंगाल सरकार को हमारे जांच के आदेश से किस तरह की दिक्कत है?
इससे पहले सोमवार को सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई की याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा था कि कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार यदि सबूतों को मिटाने की कोशिश कर रहे हैं तो CBI उनके खिलाफ सबूत लाकर दे, हम उनके खिलाफ ऐसी कार्रवाई करेंगे कि वह पछताएंगे. CBI के अधिकारियों की एक टीम कोलकाता के पुलिस आयुक्त राजीव कुमार से चिटफंड घोटाले के सिलसिले में पूछताछ करने के लिए रविवार को उनके आवास पर गई थी लेकिन टीम को उनसे मिलने की अनुमति नहीं दी गई और उन्हें थाने पर थोड़े समय के लिए हिरासत में रखा गया. इसके साथ ही मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ‘संविधान बचाओ’ के नाम पर रात लगभग 9 बजे से धरने पर बैठ गयी थीं.



loading…

Loading…






Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *