अगुस्टा वेस्टलैंड चॉपर घोटाला; दुबई की कोर्ट ने बिचौलिए के प्रत्यर्पण का आदेश दिया

 90 



अगुस्टा वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर मामले में भारत को एक बड़ी सफलता मिली है. दुबई की एक कोर्ट ने इस विवादित डील के कथित बिचौलिए क्रिश्चियन मिशेल को प्रत्यर्पित करने का आदेश दिया है.
अधिकारियों के अनुसार क्रिश्चियन मिशेल जेम्स (54) के खिलाफ आदेश अरबी भाषा में है और भारतीय अधिकारियों के आग्रह पर उसका अंग्रेजी में अनुवाद कराया जा रहा है.
इस फैसले को मामले की जांच कर रहे केंद्रीय जांच ब्यूरो और ईडी के लिए बेहद अहम माना जा रहा है. ईडी ने जून 2016 में मिशेल के खिलाफ आरोप लगाया था कि उसने अगस्ता वेस्टलैंड से करीब 225 करोड़ रुपये प्राप्त किए. ईडी ने कहा था कि यह पैसा और कुछ नहीं बल्कि कंपनी द्वारा 12 हेलीकॉप्टरों के समझौते को अपने पक्ष में कराने के लिए वास्तविक लेन-देन के नाम पर दी गई ‘रिश्वत’ थी.


सीबीआई और ईडी द्वारा जांच किए जा रहे मामलों में गुइदो हाश्के और कार्लो गेरोसा के अलावा मिशेल तीसरा कथित बिचौलिया है. अदालत द्वारा उसके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी करने के बाद दोनों जांच एजेंसियों ने उसके खिलाफ इंटरपोल रेड कॉर्नर नोटिस जारी कर दिया था.
ज्ञात है कि फरवरी 2017 में उसे UAE में गिरफ्तार किया गया था. मिशेल के वकील ने आरोप लगाया था कि केंद्रीय जांच ब्यूरो उनके क्लाइंट पर दबाव बना रही है.
हालांकि जांच एजेंसी ने इन आरोपों से साफ इनकार किया था. CBI के प्रवक्ता अभिषेक दयाल ने जून में कहा था कि जांच एजेंसी ने मिशेल को अपना गुनाह कबूल करने के लिए प्रभावित नहीं किया. UAE में तब से भगोड़े के खिलाफ प्रत्यर्पण की कार्यवाही चल रही थी. अगुस्टा वेस्टलैंड से भारत के लिए वीवीआईपी हेलिकॉप्टर खरीदने की इस डील में बड़ी रिश्वत देने का खुलासा हुआ था. कॉन्ट्रैक्ट के तहत 12 VVIP चॉपर्स की आपूर्ति की जानी थी, जो 1 जनवरी 2014 को रद्द कर दी गई.

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें

loading...


Loading...



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *